Friday, April 29, 2016

बुंदेलखंड में पलायन का दर्द !


http://www.aajsamaaj.com/article/555.html
न खेत में दाना,न पेट में पानी,
सूखी आँखों में रोज सुबह होती है !
गदेल ( युवा ) छोड़ गए बखरी,
गरीबी में खेले पत्ता , सुनाते खरी- खरी !
                


आते नही अफसर और लेखपाल गर्मी में,
प्रधान खा रहे योजना सबरी बेशर्मी में !
पशुओं को चारा और राहत पैकेट की ये सच्चाई है,
जो है पक्का समाजवादी यह उसकी लुगाई है !
पानी के टैंकर तक में यहाँ घोटाला है,
बुंदेलखंड में पलायन से गाँव का दीवाला है !!!


( तस्वीर महोबा के ग्राम गुगौरा की जहाँ जलसंकट और क्रेशर का गुबार किसान की आंते निकाल रहा है ! )

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home