Tuesday, January 26, 2016

ये कैसी आजादी है और कैसा गणतंत्र ?

'' जिन्होने अपने चेहरे पर आज तिरंगा लगाया है,
वाल पर भारत माता को सजाया है ! 
उनसे ही एक अदद सवाल, 
कौन वर्ष भर रहा वतन का दलाल ?
क्यों देश की सम्पति, एकता और संप्रभुता पर किये प्रहार,
कौन माना इस सड़ती व्यवस्था से हार !
साल भर सरकारी सड़को, चौराहों को किया पीक से लाल ,

अविरल नदी में अपनी जूठन और मैले को डाल !
खुद के घर की करते रहे रखवाली,
मगर दफ्तर में बैठकर खाते हो दलाली !
जब कभी आये मदद के अवसर,
संवेदना और आत्मा से गए तुम मर !
कभी सियासी रैलियों की भीड़ में खड़े हुए,
दिखलाई दिए वहां मुर्दों से पड़े हुए ! 
जरा सोचना गणतंत्र के मान पर क्या किया तुमने ,
इस देश को कब,कितना और क्या दिया तुमने ? 
ये जो तस्वीरों में गरीबी की ज़िल्लत है,
गौर करो यहाँ क्यों एक रोटी की किल्लत है ? '' 
( फोटो बाँदा के गोबरी गाँव की...आधी - अधूरी सही ये आजादी है ...सपनो को बुनने की,उन्हें जीने की - गणतंत्र दिवस की बधाई जी )

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home